0 1 min 7 mths

अजमेर से कॉलेज छात्रा काे जान से मारने की धमकी देकर अपहरण और गैंगरेप का मामला सामने आया है। पीड़िता के साथ जयपुर व टोंक ले जाकर दुष्कर्म किया गया। पीड़िता ने गेगल थाना पुलिस को आरोपियों के खिलाफ शिकायत दी है। मामला करीब एक साल पुराना है। गेगल थाना SHO नन्दूसिंह ने बताया कि शुक्रवार देर रात मामला दर्ज करवाया गया है। मामले की जांच IPS सुमित मेहरड़ा को सौंपी गई है।

अजमेर के केसरगंज में रहने वाली पीड़िता ने दी रिपोर्ट में बताया कि 25 अक्टूबर 2020 को दोपहर पौने दो बजे देशवाली मोहल्ला टोंक निवासी आमिर पुत्र अनीस व उसका दोस्त मोहम्मद फरदीन उसके चाचियावास स्थित आर्यभट्ट कॉलेज आए। उसे, उसके भाई व परिवार को जान से मारने की धमकी देकर गाड़ी में बिठाया। इसके बाद मुंह पर कपड़ा बांधा। फिर जबरदस्ती कुछ पिला दिया। इसके बाद वह बेहोश हो गई। आंख सिन्धी कैम्प स्टेशन जयपुर में खुली।

पीड़िता ने बताया कि आमिर पहले धर्म बदलकर उसे धोखा दे चुका है। होश में आने पर आमिर से बार-बार परेशान करने का कारण पूछा। उससे कहा कि जैसा तुमने कहा वैसा किया फिर मुझे क्यों लाए हो। इस पर आमिर ने कहा कि जहां ले जाता हूं चल, जैसा कहता हूं कर। जयपुर में आमिर के चाचा के लड़के आमिर व फैजान के घर पर लेकर गया। वहां दो घंटे तक जबदरस्ती मारपीट कर गैंगरेप किया। साथ ही खुद का धर्म कबूल करने के दबाव डाला। ऐसा नहीं करने पर जान से मारने की धमकी दी। इसके बाद धर्म विशेष के स्थल पर ले गया। वहां पर पता नहीं क्या पिलाया, उसका दिमाग चकरा गया।

5 दिन कमरे में कैद रखा

इसके बाद वहां से आमिर के चाचा रमजानी के घर टोंक ले गए। 5 दिन तक कैद करके एक बंद कमरे में खाने के लिए मांस-मीट देते थे। नहीं खाया तो मारपीट की। आमिर के पूरे परिवार ने धमकाया। बोले- पुलिस केस बनेगा हम जैसा बोलते वैसा ही बयान देना है। आमिर के या हमारे खिलाफ एक भी बयान दिया परिवार को जान से मार देंगे।

पीड़िता ने पहले आरोपी के पक्ष में दिया बयान

इसके बाद डर के मारे वे जैसा बोलते थे, वैसा ही करने लग गई। बाद में उन्होंने बताया कि कल पुलिस आएगी और बयान लेगी। तुझे यही कहना है कि तू अपनी मर्जी से आमिर के साथ आई है। तेरे साथ कोई जबरदस्ती नहीं की गई है। अगर हमारे खिलाफ जरा सा भी बोला। आमिर को सजा दिलाई तो तेरे परिवार को जान से मार देंगे। उसके बाद मेरा परिवार कानूनी की मदद से मुझे लेकर गए। लेकिन डर के मारे आमिर के परिवार ने जैसा कहा, वैसा बयान टोक थाने में दिया।

अजमेर आने पर बढ़ा पीड़िता का हौसला

पुलिस अजमेर लेकर आई तो परिवार के साथ घर चली आई। पीड़िता ने बताया कि आमिर के परिवार के डर से उसने टोंक में गलत बयान दिए थे। अब जो बता रही हूं वह निडर होकर सत्य कह रही हूं। आज भी वे लोग मुझे धमका रहे हैं। पीड़िता बीकानेर की रहने वाली है। इसलिए वो वहीं की पुलिस से जांच चाहती है। मामले की जांच बीकानेर के ही किसी अधिकारी से करवाई जाए और आरोपियों को सजा मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *