Srinagar: कश्मीरी पंडितों और गेर मुस्लिम के बसने से परेशान होकर आतंकियों ने हिन्दू और सिखों को टारगेट करना शुरू किया ,अब सरकारी स्कूल के दो शिक्षकों की गोली मारकर हत्या

Jammu and Kashmir: जम्मू-कश्मीर में लगातार एक के बाद एक आतंकी हमले हो रहे हैं। इसी कड़ी में गुरुवार को आतंकवादियों ने सरकारी स्कूल के दो शिक्षकों की गोली मारकर हत्या (teachers shot dead by terrorists) कर दी है। आतंकवादी हमला श्रीनगर (Srinagar) के शहर ईदगाह संगम (Eidgah Sangam) में हुआ, जहां दो शिक्षकों को आतंकवादियों द्वारा कक्षा से घसीटा गया और उनकी गोली मारकर हत्या कर दी गई। दोनों पीड़ित अलोची बाग के रहने वाले थे जिनके नाम हैं- स्कूल की प्रिंसिपल सतिंदर कौर (Satinder Kaur) और शिक्षक दीपक चंद (Deepak Chand)।

जम्मू-कश्मीर पुलिस हमले के बाद CRPF के साथ आतंकी हमले की जगह पर पहुंच रही है। बता दें कि हाल ही में एक और आतंकी हमला हुआ था। पाकिस्तान स्थित लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) की एक शाखा द रेसिस्टेंस फ्रंट (TRF) ने भी धमकी और चेतावनी दी है कि अल्पसंख्यकों और अन्य स्थानीय लोगों को निशाना बनाया जाएगा।

श्रीनगर में दो शिक्षकों की हत्या 

जम्मू-कश्मीर के बीजेपी अध्यक्ष रवींद्र रैना (Ravinder Raina) ने आतंकी हमलों की निंदा करते हुए कहा- “कायर पाकिस्तान ने ये काम किया है। एक दिन पहले बिंदरू की हत्या की और आज श्रीनगर में दो टीचर की हत्या कर दी। सारी दुनिया देख रही है कि पाक क्या कर रहा है। पाकिस्तान भी तालिबान की तरह आतंकवाद में ग्रसित है और उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। पाकिस्तान के खिलाफ मिलिट्री एक्शन होना चाहिए।” 

जम्मू-कश्मीर : अलग-अलग आतंकी हमलों में तीन नागरिकों की मौत

इससे पहले मंगलवार को जम्मू-कश्मीर में अलग-अलग आतंकी हमलों (terrorist attacks) में करीब एक घंटे के अंदर तीन नागरिकों की जान चली गई थी। कश्मीर जोन पुलिस द्वारा उपलब्ध कराई गई आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, पहला आतंकी हमला श्रीनगर के इकबाल पार्क इलाके में, फिर मदीना चौक लालबाजार के पास और आखिर में बांदीपोरा जिले में किया गया था। TRF ने कथित तौर पर हमले की जिम्मेदारी ली है।

पहले हमले में, श्रीनगर में इकबाल पार्क के पास माखन लाल बिंदरू नाम के एक कश्मीरी पंडित की उनकी फार्मेसी के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई। वह घाटी क्षेत्र में एक बड़े व्यवसायी थे, जिनके श्रीनगर में दो मेडिकल स्टोर थे और उनमें से एक उनके परिवार द्वारा 1947 में शुरू किया गया था। 

उसके बाद, आतंकवादियों ने श्रीनगर के मदीना चौक लालबाजार इलाके के पास हमला किया, जहां वीरेंद्र पासवान नामक एक गैर-स्थानीय नागरिक की हत्या कर दी गई। इसके बाद, उत्तरी जम्मू और कश्मीर के बांदीपोरा जिले से तीसरे हमले की सूचना मिली जहां नायदखाई के निवासी मोहम्मद शफी लोन की गोली मारकर जान ले ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *