गुपकार गठबंधन का यूटर्न-गुपकार के नेताओं ने अब पीएम मोदी के साथ मुलाकात को निराशाजनक बता दिया

दिल्ली में कश्मीरी नेताओं की पीएम मोदी के साथ हुई गर्मजोशी वाली बैठक के ठीक 11वें दिन गुपकार गठबंधन का रुख 360 डिग्री बदल गया, जिस गुपकार गठबंधन के नेताओं ने पीएम मोदी के साथ मुलाकात को अच्छे माहौल में बताया था । गठबंधन ने कहा कि उसमें विश्वास बहाली के लिए कदमों पर बात नहीं हुई और ना ही अगस्त 2019 से जम्मू-कश्मीर के लोगों का ‘दम घोंट रहे घेराबंदी और दमन वाले वातावरण’ को समाप्त करने के लिए ठोस कदम उठाने पर चर्चा हुई।

इन्हीं गुपकार के नेताओं ने अब पीएम मोदी के साथ मुलाकात को निराशाजनक बता दिया है और बाकायका सोमवार को पीपल्स अलायंस फॉर गुपकार डिकेलेरेशन यानी pagd की तरफ से एक बयान जारी कर कहा गया है कि पीएम मोदी की तरफ से विश्वास बहाली के कदमों में निराशा दिखाई देती है और पूर्ण राज्य के दर्जे के बाद ही जम्मू कश्मीर में चुनाव होने चाहिए। 

बता दें, गुपकार घाटी की छह बड़ी राजनीतिक पार्टियों का गठबंधन है जिसमें… नेशनल कांफ्रेंस (नेकां), पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी), माकपा, भाकपा, आवामी नेशनल कांफ्रेंस और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट शामिल है। केन्द्र सरकार ने संविधान में संशोधन कर पांच अगस्त, 2019 को अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त कर दिया। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त हो गया और उसे दो केन्द्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में बांट दिया गया।

गुपकार गठबंधन ने अपने बयान में कहा है कि “जहां तक ​​राज्य का दर्जा बहाल करने का सवाल है, यह संसद के पटल पर बीजेपी का कमिटमेंट है और उन्हें अपने वचन का सम्मान करना चाहिए। इसलिए कोई भी विधानसभा चुनाव जम्मू-कश्मीर के लिए पूर्ण राज्य की बहाली के बाद ही होना चाहिए”

24 जून को पीएम मोदी की अध्यक्षता में 14 जम्मू कश्मीर के नेताओं ने सर्वदलीय बैठक की, पीएम मोदी के एक बुलावे पर पूरा राजनैतिक कश्मीर दिल्ली पहुंच गया। चर्चा परीसीमन प्रक्रिया से लेकर राज्य में विधानसभा चुनाव कराने तक पर पर भरपूर हुई लेकिन बैठक के बाद पीएम मोदी की पहल की तारीफ करने वाले ये राजनेता इतनी जल्दी अपनी बात से पलट जाएंगे या यूटर्न ले लेंगे ये कोई नहीं जानता था। अब घाटी का राजनैतिक माहौल और कितना गरमाता है ये आने वाले दिनो में पता चल जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *