राजस्थान न्यूज़:4 कंपनियों को 111 करोड़ एडवांस दे दिए,60% कंसंट्रेटर अब तक नहीं दिए

कोविडकाल में उपकरणों की खरीद में न केवल जमकर धांधली की गई बल्कि चहेतों को फायदा देने के लिए नियमों को भी दरकिनार कर दिया गया। अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि आरएमएससीएल के अधिकारियों ने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए 111 करोड़ रुपए का अग्रिम भुगतान कर दिया।

नियमों के अनुसार किसी भी सरकारी खरीद में कंपनियों को अग्रिम भुगतान नहीं किया जा सकता। अधिकारियों ने तर्क दिया कि जरूरत को देखते हुए ऐसा किया गया। मगर कोविड के आंकड़े और हकीकत बताती है कि जिस समय ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदे गए, उस समय पूरे प्रदेश में काेविड उतार पर था और केस लगातार कम हो रहे थे। यदि आरएमएससीएल को खरीदने भी थे तो उन्हें अग्रिम भुगतान क्यों किया गया। वहीं, बात यह भी कि इन कंपनियों को जून माह तक में ही ये कंसट्रेटर देने थे, लेकिन अभी तक पूरे नहीं दिए गए।

RMSCL के एमडी छुट्‌टी पर गए, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा बोले- मामले की जांच कराएंगे

आरएमएससीएम के एमडी आलोक रंजन छुट्टी लेकर चले गए हैं। वहीं, इस मामले में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि हम इस पूरे मामले की जांच कराएंगे।

इन कंपनियों को किया गया अग्रिम भुगतान, जबकि नियम कहता है-ऐसा नहीं कर सकते

साबू सोडियम, चीन – 36.10 करोड़ रु. ग्लोबल गैसेज, दुबई – 23.73 करोड़ रु. एनफ्राइन टेक, बेंगलुरू – 10.97 करोड़ रु. ए-फार्मेया – 40.5 करोड़ रु.

सौरस कंपनी ने एक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कीमत 49 हजार रु. (जीएसटी अलग) ली। सोडियम साबू ने 49,900 (जीएसटी अलग) में एक कंसंट्रेटर दिया। RMSCL ने साबू से 36.10 करोड़ रु. की खरीद की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *