चुनावी जीत के बाद हुई बंगाल हिंसा को छोड़ अब ममता बनर्जी का धारा 370 प्रेम जागा कहा – अनुच्छेद 370 हटाने से देश की बदनामी हुई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दिल्ली स्थित आवास पर कश्मीरी नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे हैं। इस बैठक में गुपकार अलायंस के नेता भी शामिल हुए हैं, जो कश्मीर में आर्टिकल 370 बहाल किए जाने की मांग करते रहे हैं।

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से जब इस बैठक के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाया जाना, कश्मीरियों की आजादी छीनना है। जिस तरह से वैक्सीन के लिए देश की बदनामी हुई, उसी तरह आर्टिकल-370 हटाने पर भी देश की बदनामी हुई है।

ममता का सवाल- क्या PM ने कश्मीरी जनता को बैठक में बुलाया?
ममता ने कहा कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर के लोगों को बुलाकर कश्मीर पर मीटिंग कर रहे हैं। राज्य का दर्जा वापस लिए जाने की क्या जरूरत थी। लोगों को पहले आजादी चाहिए। आपने आजादी छीन ली। ये फैसला देश के किसी काम नहीं आया और दो साल तक जम्मू-कश्मीर में कोई टूरिस्ट भी नहीं जा पाया है। देश की बहुत बदनामी हुई है।

जो आवाज उठाता है, भाजपा उसे एंटी नेशनल कहती है
ममता ने कहा कि भाजपा हर किसी को एंटी नेशनल बोलती है और खुद को ही नेशनलिस्ट बताती है। जो भी आवाज उठाने की कोशिश करता है, उसे एंटी नेशनल और टेररिस्ट घोषित कर देती है। जो लोग देश के लोगों को एक वैक्सीन भी नहीं दे सकते हैं। लाशें गंगा में बहती रहती हैं, उनका रिकॉर्ड भी मिटा देते हैं, वो इतनी बड़ी-बड़ी बातें कैसे करते हैं?

PM आवास पर 14 दलों के नेताओं की मीटिंग
जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाए जाने के करीब 2 साल बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को राज्य के 14 दलों के नेताओं के साथ मीटिंग कर रहे हैं। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती समेत गुपकार अलायंस के बड़े नेता भी मौजूद हैं। इनके अलावा गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद भी बैठक में शामिल हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *