ED बेंगलोर के अधिकारी के द्वारा LOAN APPS के केस में रिश्वत ली गई ,सीबीआई के द्वारा की गई कार्यवाही

हैदराबाद : Newsmeter पोर्टल में छपी खबर के अनुसार सीबीआई ने ED के एक अधिकारी को लोन अप्प्स की कंपनी से पांच लाख रूपये की रिश्वत लेते ट्रैप किया गया है.सीबीआई के द्वारा ED के एक अधिकारी LALITH BAZAD के खिलाफ अपराधिक मामले लगाये है.

ED ने तेलंगाना पुलिस के द्वारा रजिस्टर F.I.R. को आधार मानते हुए लोन अप्प्स कंपनियों पर मनी लोंड्रिंग केस में जांच करना शुरू किया था. यह केस ED बेंगलोर के डेपुटी डायरेक्टर मनोज मित्तल को सोपा गया था. सीबीआई इन्वेस्टीगेशन में आरोपित LALITH BAZAD ,मनोज मित्तल सहायक के तोर पर कार्यरत था.

LALITH BAZAD ने APOLLO FINVEST मुंबई के डायरेक्टर मिखिल इन्नानी को समन देकर ED बेंगलोर में प्रश्न पूछने के लिए बुलाया गया.और जो डाक्यूमेंट्स थे वो इन्वेस्टीगेशन ऑफिसर मनोज मित्तल के द्वारा हस्ताक्षर किये गए थे.

इन समन के अनुसार मिखिल खुद की पत्नी दीक्षा और कजिन भाई हरीश इन्नानी के साथ ED बेंगलोर ऑफिस 9 फ़रवरी 2021 को गया. ये लोग रूम नंबर 6 में LALITH BAZAD से मिले.

उसी शाम मिखिल खुद की पत्नी दीक्षा और कजिन भाई हरीश इन्नानी के साथ वापस मुंबई लोट गये. LALITH BAZAD ने उसी रात मिखिल को व्हात्सप्प के माध्यम से कॉल करके पांच लाख रूपये की रिश्वत बैंक एकाउंट्स को अन्फ्रीज़ करने के मांगे. मिखिल के द्वारा कॉल का रिप्लाई करते हुए रिश्वत के पैसों का इन्तेजाम करने का समय माँगा.

सीबीआई जांच में पता चला की आरोपित अधिकारी LALITH BAZAD ने LEVEL PUB AND KITCHEN -JP NAGAR के एक वेटर मिथुन नायक के फ़ोन से मिखिल को फ़ोन किया और मिथुन के फ़ोन से ही व्हात्सप्प के माध्यम से लोकेशन शेयर की. इस स्केम को इस तरह से रचा गया कि पार्किंग के एक कर्मचारी को रिश्वत के पांच लाख रूपये देने थे और उस कर्मचारी ने LALITH BAZAD की कार में वो रिश्वत की रकम रख दी.

रिश्वत का पैसा कहा से आया ?

एक मानवेन्द्र भाटी नाम का व्यक्ति बेंगलोर बेस्ड जेवेलर राजेंद्र जैन से LALITH BAZAD को देने के लिए लाया. जो की ग्रेनाइट बिज़नेस के मालिक सुनील के कहने पर भेजे गये. सुनील ने हरीश इन्नानी के कहने पर ये सब किया.

मिखिल का बैंक अकाउंट क्यों सिज़ किया गया ?

APOLLO FINVEST के बैंक अकाउंट ED बेंगलोर ने इंस्टेंट लोन अप्प्स केस में फ्रीज़ किये थे.सीबीआई ने कहा कि यह पता चला है कि खातों को बंद करने और मामले में झूठे आरोपण की धमकी का इस्तेमाल LALITH BAZAD ने मिखिल से अवैध रिश्वत मांगने और स्वीकार करने के लिए किया था। सीबीआई ने ईडी अधिकारी LALITH BAZAD के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 17-ए के तहत मामला दर्ज किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *