राजस्थान में 1 जून से शुरू होगी अनलॉक की प्रक्रिया

प्रदेश में सरकार ने 8 जून तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाने के साथ 1 जून के बाद से चुनिंदा सेक्टर को अनलॉक करने की प्रक्रिया शुरू करने का फैसला किया है। जिन जिलों में कोरोना के मामले कम हैं, वहां से अनलॉक की शुरुआत होगी। कम भीड़-भाड़ की संभावना वाली दुकानों को पहले खोलने की अनुमति दी जाएगी। 1 जून के कुछ दुकानों के साथ बाजार खोलने की अनुमति दी जाएगी। इसके लिए गृह विभाग अलग से गाइडलाइन जारी करेगा। गृह विभाग की नई गाइडलाइन में अनलॉक प्रकिया शुरू करने का जिक्र है।

व्यापारी कर रहे मांग

प्रदेश में मेडिकल, किराना, फल सब्जी और दूध की दुकानों को छोड़कर 17 अप्रैल से ही बाजार बंद हैं। कई व्यापारिक संगठन भी दु​कानें खोलने की मांग कर रहे हैं। लंबे समय से बाजार बंद रहने से व्यापारियों को काफी नुकसान हो रहा है। छोटे व्यापारियों और किराए की दुकान वालों के सामने सबसे ज्यादा दिक्कत है। कर्ज लेकर कारोबार करने वालों को किस्तें चुकाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

संक्रमण दर देखकर फैसला

जालौर, प्रतापगढ़, धौलपुर, बांसवाड़ा ऐसे जिले हैं, जहां एक्टिव केस एक हजार से कम हैं। कई अन्य जिलों में रिकवरी रेट तेजी से बढ़ रहा है। जिन इलाकों में संक्रमण की दर कम है, वहां छूट दी जाएगी। सप्ताह भर में रिकवरी रेट और बढ़ेगा। ऐसे में बहुत से जिलों में हालात सामान्य होने के आसार हैं। इसलिए अनलॉक की शुरूआत वाले जिलों की संख्या दर्जन भर से ज्यादा होना तय है।
विकास योजनाओं के काम शुरू होंगे
ग्रामीण क्षेत्रों में बंद पड़े मनरेगा के काम फिर से शुरू किए जाएंगे। ग्रामीण विकास विभाग इसके लिए अलग से गाइडलाइन जारी कर रहा है। 10 मई से मनरेगा के काम बंद ​कर दिए गए थे। अब सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड प्रोटोकॉल के पालन के साथ मनरेगा और ग्रामीण विकास की योजनाओं के कामों को फिर से शुरू करने का फैसला किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *