पंजाब सरकार ने यूपी से कहा- ‘मुख्तार की हिरासत 8 अप्रैल तक रूपनगर जेल से ले ली जाए’

पंजाब की सरकार ने गैंगस्टर मुख्तार अंसारी की हिरासत उत्तर प्रदेश सरकार को 8 अप्रैल तक रूपनगर जेल से लेने के लिए कहा है। जिसपर अब गाजीपुर से BSP सांसद अफजाल अंसारी जो मुख्तार के भाई हैं उन्होंने कहा कि, अब मेरे भाई की सुरक्षा न्यायपालिका और योगी सरकार की जिम्मेदारी है। आपको बता दें, मुख्तार अंसारी, उत्तर प्रदेश में कई मामलों में वांछित हैं। वो कथित वसूली के मामले में साल 2019 से पंजाब की रूपनगर जेल में बंद है।

वहीं यूपी के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) को लिखे पत्र में पंजाब के गृह विभाग ने गैंगस्टर मुख्तार अंसारी के ट्रांसफर के लिए इंतजाम करने को कहा है। चिट्ठी में कहा गया है कि रूपनगर में कैदी को 8 अप्रैल को, या इससे पहले यूपी सरकार को सौंपा जाएगा। इससे पहले कई बार यूपी पुलिस मुख्तार को राज्य में लाने का प्रयास कर चुकी है। लेकिन मुख्तार अंसारी कई बीमारियों का हवाला देकर बचता रहा। 

वहीं बताया जा रहा है कि, मुख्तार को यूपी लाने की पूरी तैयारी कर ली गईं हैं। कल पंजाब के रोपड़ जेल बांदा पुलिस की एक स्पेशल टीम जाएगी। वहीं दूसरी तरफ मुख्तार के लग्जरी एंबुलेंस पर भी कार्रवाई तेज हो गई है। पंजाब के रोपड़ में बारांबकी की पुलिस टीम पहुंच चुकी है। वहीं कल मुख्तार से मामले में पूछताछ हो सकती है। पंजाब सरकार ने अपनी चिट्ठी में, 26 मार्च के सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला दिया है। जिसमें राज्य सरकार को निर्देश दिया गया था कि दो हफ्ते में उत्तर प्रदेश के मऊ से MLA को बांदा जेल में स्थानांतरित किया जाए।

गौरतलब है कि, साल 2005 में बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या ने उत्तर प्रदेश की सियासत को हिला कर रख दिया था। 29 नवंबर 2005 को कृष्णानंद राय समेत कुल 7 लोगों की हत्या कर दी गई थी। दरअसल कृष्णानंद राय ने अंसारी भाइयों के राजनीतिक वर्चस्व वाली मोहम्मदाबाद सीट पर 2002 में विधानसभा चुनाव में अफजाल अंसारी को हराकर जीत दर्ज की थी और इसके बाद मुख्तार अंसारी पर हत्या की साजिश रचने का आरोप लगा।

कृष्णानंद राय की हत्या कैसे हुई?

कृष्णानंद राय क्रिकेट प्रतियोगिता का उद्घाटन कर लौट रहे थे तभी उनके काफिले पर AK-47 से हमला किया गया। करीब 500 राउंड फायरिंग हुई। जिसके बाद मौके पर ही विधायक कृष्णानंद राय की मौत हो गई। कृष्णानंद उस दिन बुलेटफ्रूफ गाड़ी में नहीं थे। कृष्णानंद राय की हत्या का आरोप मुख्तार अंसारी पर लगा था। हालांकि उस समय मुख्तार जेल में था, लेकिन इस हत्याकांड के तार उससे ही जुड़ते दिखाई दिए थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *