तो क्या मुख्तार की पत्नी को सताया गाड़ी पलटने का डर, राष्ट्रपति से लगाई सुरक्षा की गुहार

लखनऊ: पंजाब की जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की पत्नी अफशां अंसारी ने बुधवार को राष्ट्रपति को पत्र लिखा है. उन्होंने पत्र के जरिए अपने पति को पंजाब से यूपी लाने के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम सुनिश्चित करने का आदेश देने की गुहार लगाई है. अफशां अंसारी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) को लिखे पत्र में कहा है कि उनके पति मुख्तार अंसारी इस समय पंजाब की रोपड़ जेल में बंद हैं. सुप्रीम कोर्ट ने बीते 26 मार्च को अपने आदेश में उन्हें रोपड़ जेल से 2 सप्ताह के अंदर बांदा जेल भेजने का आदेश दिया है. 

फर्जी मुठभेड़ में कराई जा सकती है अंसारी की हत्या 
अफशां ने पत्र में लिखा कि उनके पति एक मामले में चश्मदीद गवाह हैं, जिसमें भाजपा के विधान परिषद सदस्य माफिया बृजेश सिंह और त्रिभुवन सिंह अभियुक्त हैं. यह दोनों अभियुक्त सरकारी तंत्र की कथित मिलीभगत से अंसारी को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. लिहाजा इस बात का खतरा महसूस हो रहा है कि पंजाब की जेल से बांदा लाते वक्त रास्ते में फर्जी मुठभेड़ की आड़ में अंसारी की हत्या की जा सकती है. 

‘लाइफ प्रोटेक्शन’ का आदेश दें राष्ट्रपति- अफशां
अफशां ने आगे पत्र में कहा,”यूपी सरकार के कुछ अधिकारियों के पूर्व में किए गए क्रियाकलापों से आवेदक का परिवार भयभीत है और अपने पति के जीवन की सुरक्षा के प्रति घोर चिंतित है. आवेदक को मिल रही पुख्ता सूचना और धमकी के कारण, ऐसा लगता है कि अगर मेरे पति के जीवन की सुरक्षा के लिए जिम्मेदारी तय किए बगैर उन्हें उत्तर प्रदेश भेजा गया तो निश्चित रुप से कोई झूठी कहानी रच कर मेरे पति की हत्या करा दी जाएगी. इसलिए राष्ट्रपति से गुजारिश है कि वह उत्तर प्रदेश लाते वक्त मेरे पति के ‘लाइफ प्रोटेक्शन’ का आदेश दें.” 

CRPF के दस्ते के साथ जेल से अदालत ले जाने की मांग 
अफशां ने राष्ट्रपति से कहा कि अन्य विचाराधीन बंदियों की तरह उनके पति को भी कोविड-19 महामारी के कारण अदालत में खुद पेश होने से छूट दी गई है और वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए पेशी कराई जा रही है. अफशां ने मांग कि अगर किसी मामले में उन्हें अदालत में पेश करना बहुत जरूरी हो तो राष्ट्रपति, सरकार को केंद्रीय रिजर्व सुरक्षा बल (CRPF) के दस्ते के साथ जेल से अदालत और अदालत से वापस जेल तक सुरक्षित भेजने के प्रबंध का आदेश दें. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *