नए कृषि कानूनों पर प्रधानमंत्री Narendra Modi ने फिर दिया प्रस्ताव, सरकार किसानों से एक फोन कॉल की दूरी पर

नई दिल्ली: नए कृषि काननों (New Farm Law) पर चल रहे विवाद के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा है कि सरकार किसानों से चर्चा के लिए तैयार है. सरकार किसानों से एक फोन कॉल की दूरी पर है. 

‘सरकार किसानों से बातचीत के लिए हमेशा तैयार’

सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) में पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि सरकार सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है. इस चर्चा में सभी विषयों पर बातचीत होगी और सभी पार्टियों को बोलने का मौका मिलेगा. बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के द्वारा किसानों को दिया गया ऑफर अभी भी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार किसानों से बातचीत के लिए हमेशा तैयार है.

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई सर्वदलीय बैठक

जानकारी के मुताबिक बजट सत्र के संचालन के लिए सरकार की ओर से शनिवार को सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) बुलाई गई थी. वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए हुई बैठक में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार किसानों के साथ बातचीत के जरिये उठाए गए मुद्दों को सुलझाने की लगातार कोशिश कर रही है. 

‘किसानों के एक फोन कॉल की दूरी पर है सरकार’

प्रधानमंत्री (Narendra Modi) ने कहा कि तीन नए कृषि कानूनों पर केंद्र का प्रस्ताव अभी भी मौजूद है. किसानों के साथ आयोजित हुई पिछली बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि था कि किसानों से सिर्फ एक फोन कॉल की दूरी पर हैं. सरकार आज भी उनकी बात पर कायम है. 

‘कई पार्टियों के नेता बैठक में मौजूद रहे’

सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) में विभिन्न पार्टियों के नेता शामिल हुए. कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंद्योपाध्याय, शिरोमणि अकाली दल के बलविंदर सिंह भुंडर और शिवसेना के विनायक राउत सहित कई नेताओं ने किसानों के विरोध का मुद्दा उठाया.

‘पीएम ने महात्मा गांधी की प्रतिमा तोड़ने की निंदा की’

बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने मीडिया को मीटिंग के मिनट्स की जानकारी दी. प्रह्लाद जोशी ने कहा कि बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि सरकार किसान नेताओं के साथ बातचीत के लिए तैयार है. प्रधानमंत्री ने अमेरिका के कैलिफोर्निया में महात्मा गांधी की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त किए जाने की भी निंदा की. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *