WhatsApp की नई पॉलिसी के बाद आखिर क्यों इसका विकल्प तलासना पड़ रहा है समझे

श्श्श्श्श.. कोई है.. WhatsApp है. सब देख रहा है. सबको बता देगा. सब पता चल जाएगा. यकीनन वॉट्सऐप की नई पॉलिसी ऐसी ही है. बस फिर क्या हंगामा है क्यों बरपा… यूजर्स इसे लेकर कंफ्यूज हो गए हैं. अफरा-तफरी में एक्सेप्ट कर रहे हैं. चाय पर चर्चा भी वॉट्सऐप की ही है. क्योंकि, चैट करना है तो वॉट्सऐप की शर्त तो माननी पड़ेगी. WhatsApp पर अब आपकी कोई जानकारी Private नहीं रहेगी. अगर आप चाहते हैं कि एक्सेप्ट कर लें तो समझ लें कि आखिर मामला है क्या. वॉट्सऐप आपकी प्राइवेट डीटेल्स को भी शेयर कर देगा? 

WhatsApp अपने यूजर्स के लिए नए-नए फीचर्स लाता है. लेकिन, मंगलवार शाम से WhatsApp ने भारतीय WhatsApp यूजर्स को अपनी टर्म्स और प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर अपडेट भेजना शुरू किया है. वॉट्सऐप ने यूजर्स को नई पॉलिसी को एक्सेप्ट करने के लिए 8 फरवरी 2021 तक का समय दिया है. तब तक पॉलिसी को यूजर्स को एक्सेप्ट करना होगा वरना अकाउंट डिलीट करना होगा.

अभी यूजर्स के पास Not Now का ऑप्शन
यहां यूजर्स को अपना अकाउंट जारी रखने के लिए नई पॉलिसी को एक्सेप्ट करना जरूरी होगा. इसके अलावा यूजर्स के पास कोई दूसरा ऑप्शन नहीं है. हालांकि, अभी नोटिफिकेशन में ‘नॉट नाउ’ का ऑप्शन दिखाई दे रहा है. मतलब नई पॉलिसी को कुछ समय के लिए एक्सेप्ट नहीं करने पर भी फिलहाल आपका अकाउंट चलता रहेगा. आपको बता दें यूजर्स को अपना अकाउंट जारी रखने के लिए नई पॉलिसी को एक्सेप्ट करना जरूरी होगा. इसके लिए कोई ऑप्शन यूजर्स को नहीं मिलेगा.

नई पॉलिसी में आखिर है क्या?
नई पॉलिसी में फेसबुक और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा है और अब यूजर्स का पहले से ज्यादा डेटा फेसबुक के पास होगा. वॉट्सऐप का डेटा पहले भी फेसबुक के साथ शेयर किया जा रहा था. लेकिन, कंपनी ने साफ कर दिया है कि फेसबुक के साथ वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा रहेगा. वॉट्सऐप की अपडेटेड पॉलिसी में कंपनी को दिए जा रहे लाइसेंस में कुछ बातें लिखी हैं. इसमें लिखा है कि हमारी सर्विसेज को ऑपरेट करने के लिए आप वॉट्सऐप को, जो कंटेंट आप अपलोड, सबमिट, स्टोर, सेंड या रिसीव करते हैं, उनको यूज, रिप्रोड्यूस, डिस्ट्रीब्यूट और डिस्प्ले करने के लिए दुनियाभर में, नॉन-एक्सक्लूसिव, रॉयल्टी फ्री और ट्रांसफरेबल लाइसेंस देते हैं.

WhatsApp New Policy
WhatsApp आपका फोन नंबर, बैंकिंग ट्रांजैक्शन डेटा, सर्विस-रिलेटेड इन्‍फॉर्मेशन, दूसरों से किस तरह इंटरेक्ट करते हैं ऐसी जानकारी, मोबाइल डिवाइस इन्‍फॉर्मेशन और आईपी एड्रेस. WhatsApp सर्विस और डेटा की प्रोसेसिंग. फेसबुक की कंपनियां और सर्विस WhatsApp के चैट को स्टोर कर सकते हैं. फेसबुक के दूसरे प्रोडक्ट का एकीकरण.

Whatsapp New privacy policy FAQ Accept or not here is what you need to know, data sharing with Facebook

किन कंपनियों के साथ शेयर होगी इंफो
WhatsApp की प्राइवेसी पॉलिसी को यूजर्स को मानने के अलावा कोई ऑप्शन नहीं है. यूजर्स फेसबुक की दूसरी कंपनियों के साथ इन्‍फॉर्मेशन शेयर न किया जाए का विकल्प चुन सकते थे. कंपनी ने अपने FAQ में इन-हाउस कंपनियों के बीच डेटा शेयरिंग को लेकर डिटेल में जानकारी शेयर की है. फेसबुक की कंपनियों में- फेसबुक पेमेंट्स, WhatsApp, इंस्टाग्राम, फेसबुक टेक्नोलॉजीज, ओनावो और क्राउड टेंगल जैसी कंपनियां शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *