हत्या मामले में न्याय नहीं मिला तो पैदल पहुंचे जयपुर, अब दंडवत करते दिल्ली जायेगा परिवार

जयपुर: नागौर जिले के मेड़ता सिटी में 22 जून 2020 को 75 साल की बुजुर्ग महिला छोटी देवी प्रजापति की हत्या (Nagaur Murder Case) के बाद से प्रजापति समाज की ओर से मुलजिम को गिरफ्तार करने की मांग और प्रदर्शन किये जा रहे है, लेकिन न्याय नहीं मिलने पर अब पीड़ित परिवार पैदल चलकर जयपुर पहुंचा है. यहां न्याय के लिए हर दरवाजे को खटखटाने के प्रयास कर रहे हैं. पीड़ित परिवार का कहना है कि नागौर जिले की पुलिस आज 135 दिन होने के बाद भी मुलजिम को गिरफ्तार नहीं कर पाई है. 

छोटी देवी प्रजापति के परिजन एवं प्रजापति समाज के द्वारा मुलजिम को गिरफ्तार करने हेतु राजस्थान के समस्त जिला मुख्यालय से लेकर तहसील मुख्य तक आवाज उठाई जा रही है, लेकिन नागौर जिले की पुलिस अभी तक मुलजिम तक पहुंचने में नाकामयाब साबित हो रही है. नागौर जिले की पुलिस के नाकामयाबी के खिलाफ छोटी देवी के पुत्र, पोत्री और  अन्य परिजन मेड़ता से 7 सितम्बर को पैदल नागौर जिले के लिए रवाना हुए थे, 9 दिन बाद नागौर पहुंचने पर जिला पुलिस अधीक्षक द्वारा दो पुलिस अधिकारियों को भेजकर वार्ता के लिए आमंत्रित किया गया. जिला पुलिस अधीक्षक श्वेता धनकड से वार्ता हुई तो तुरन्त प्रभाव से मुलजिमों को गिरफ्तार करने बात कहने पर धरना नागौर में 16 सितम्बर को रोक दिया गया.

आश्वासन मिलने के 1 महिने बाद भी नागौर पुलिस की ओर से मुलजिम को गिरफ्तार नहीं किया जा सका. जिसके बाद 22 अक्टूबर को पीड़ित परिवार नागौर से मुख्यमंत्री से मिलने के लिए 250 किलोमीटर की यात्रा पर पैदल जयपुर के लिए रवाना हो गया. पीड़ित परिवार 2 दिन पहले पैदल मार्च करते हुए मुख्यमंत्री से मिलने के लिए जयपुर पहुंचा, लेकिन झोटवाड़ा से पहले ही परिवार को रोक दिया गया. उसके बाद परिवार रात के समय स्टेच्यू सर्किल पहुंचा और अगले दिन सचिवालय कार्यालय पहुंचकर मुख्यमंत्री से मिलने की गुहार लगायी गयी. 

सचिवालय में मिले अधिकारियों ने पीड़ित परिवार को डीजीपी से मिलने के लिए कहा. बाद में निराश पीड़ित परिवार अपनी न्याय की गुहार लगाने के लिए दंडवत करते हुए दिल्ली के लिए रवाना हो गया. दिल्ली में जाकर केन्द्रीय गृह मंत्री से पीड़ित परिवार अब न्याय की गुहार लगायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *